नरेंद्र मोदी बने राजनीति के सबसे बड़े बाजीगर

modi_555_073017050754

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने ईवीएम पर सवाल उठाते हुए कहा था कि चुनावों के दौरान किसी भी पार्टी को वोट डाला जाए वो जाता बीजेपी को ही है. हाल ही में बिहार में मची सियासी उथल-पुथल के बाद सोशल मीडिया पर इसे लेकर काफी मजाक उड़ाया गया. लेकिन जिस तरह धीरे-धीरे बीजेपी ने 29 में से 18 राज्यों में अपनी सरकार बना ली है और कांग्रेस 6 राज्यों तक सिमट कर रह गई है उससे इसे मजाक समझना सही नहीं होगा.

modi5_555_073017050859

बिहार में महागठबंधन से बनी नीतीश कुमार सरकार 20 महीने भी नहीं चल पाई. विधानसभा चुनावों में बीजेपी को करारी हार मिली और पार्टी यहां तीसरे नंबर पर आ गई लेकिन इसके बावजूद वो नीतीश कुमार के साथ सरकार बनाने में सफल रही और लालू यादव सबसे अधिक विधायक होने के बावजूद अपनी पार्टी को विपक्ष में बैठते देखने को मजबूर हैं.

modi9_555_073017050859

इस साल हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने पहली बार मणिपुर में अपनी सरकार बनाई. 60 सीटों वाले मणिपुर में किसी पार्टी को बहुमत हासिल नहीं हुआ लेकिन कांग्रेस ने सबसे ज्यादा 28 सीटें जीतीं इसके बावजूद यहां अन्य पार्टियों के समर्थन से बीजेपी अपनी सरकार बनाने में कामयाब रही. यहां बीजेपी के बीरेन सिंह मुख्यमंत्री बने और एनपीपी के विधायक वाई जयकुमार को उप-मुख्यमंत्री बनाया गया. यानी यहां भी बीजेपी हारने के बावजूद जीत गई.

modi6_555_073017050859

गोवा में हुए विधानसभा चुनावों में 40 सीटों में से बीजेपी केवल 14 सीटें जीत पाई थी जबकि कांग्रेस ने 18 सीटों पर जीत हासिल की. कांग्रेस से कम सीटें होने पर भी गोवा में बीजेपी अपनी सरकार बनाने में कामयाब रही. रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने अपने पद से इस्तीफा देकर गोवा में छोटे दलों और निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई जबकि कांग्रेस राज्यपाल के बुलावे का ही इंतजार करती रह गई. गोवा में बीजेपी चुनाव हार गई लेकिन उसकी सत्ता बरकरार रही.

modi2_555_073017050754

इससे पहले दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनावों में से एक उत्तरी दिल्ली नगर निगम में बीजेपी ने बड़ी जीत हासिल की थी. इन चुनावों में बीजेपी ने आप और कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया था. 103 वॉर्ड में हुए इन चुनावों में बीजेपी को जीत के लिए 53 वॉर्ड जीतने थे लेकिन बीजेपी ने इसमें 66 वॉर्ड में जीत हासिल की. बीजेपी के बाद दूसरे नंबर पर आप पार्टी थी जिसने 20 वॉर्ड में जीत हासिल की थी. आप के लिए यह हार बहुत बड़ी थी क्योंकि दिल्ली विधानसभा चुनावों में उसने 70 में से 67 सीटें हासिल कर बड़ी कामयाबी पाई थी.

amit_555_073017053643

गुजरात की तीन राज्‍यसभा सीटों पर चुनाव होने वाले हैं, जिनमें माना जा रहा है कि दो सीटें बीजेपी के और एक सीट कांग्रेस के खाते में जाएगी. जिन दो सीटों पर बीजेपी की जीत पक्की मानी जा रही है उनमें से एक सीट पर बीजेपी ने अमित शाह और दूसरी पर स्‍मृति ईरानी को उतारा है. वहीं जिस सीट पर कांग्रेस की जीत पक्की मानी जा रही है उस पर कांग्रेस ने पांच बार से राज्‍यसभा सांसद अहमद पटेल को उतारा है, जो कांग्रेस उपाध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार भी हैं. इन चुनावों से ठीक पहले गुजरात में कांग्रेस के 5 विधायक पार्टी छोड़ चुके हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शंकर सिंह वाघेला ने भी अपने जन्मदिन के दिन कांग्रेस को झटका देते हुए पार्टी छोड़ दी. कांग्रेस में मची इस भगदड़ के बाद अहमद पटेल के लिए जीत मुश्किल होती दिख रही है.

modi7_555_073017050859

उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में बंपर जीत के बाद भी सूबे में नरेंद्र मोदी का जादू कायम है. पीएम मोदी की बढ़ती लोकप्रियता से विपक्ष में बिखराव नजर आ रहा है. सपा-बसपा में टूट और इस्तीफे का दौर जारी है. नवाब बुक्कल समेत दो MLC ने सपा से इस्तीफा दे दिया है जबकि एक का बीएसपी से इस्तीफा हो गया है. ये सभी बीजेपी से जुड़ने को इच्छुक हैं. ऐसे में अगर ये बीजेपी में आते हैं तो पार्टी की राज्यसभा में ताकत बढ़नी लाजिमी है. दरअसल ये पीएम नरेंद्र मोदी की करिश्माई छवि है जिस वजह से विपक्ष के नेता भी उनके साथ आने को बेताब हैं. यही नहीं, मुलायम के भाई शिवपाल यादव भी बीजेपी जुड़ सकते हैं.

modi8_555_073017050859

राष्ट्रपति चुनावों में बीजेपी ने दलित चेहरे और बिहार के तत्कालीन गवर्नर रामनाथ कोविंद को एनडीए के राष्ट्रपति कैंडिडेट के रूप में उतारा. इसे बीजेपी का मास्टरस्ट्रोक माना गया. क्योंकि विपक्ष अपने उम्मीदवार पर सोचता ही रह गया और बीजेपी ने महज दो घंटे की बैठक में कोविंद का नाम घोषित कर यूपीए को झटका दे दिया. राष्ट्रपति चुनावों में रामनाथ कोविंद ने 65% से ज्यादा वोट जीते वहीं मीरा कुमार को करीब 34% वोट मिले. इन चुनावों में बीजेपी ने विरोधी दलों में भी सेंध लगाई. पश्चिम बंगाल से भी बीजेपी के केवल 6 वोट हैं, लेकिन कोविंद के पक्ष में 11 वोट डाले गए, वहीं त्रिपुरा में बीजेपी का कोई विधायक नहीं होने के बावजूद कोविंद को 7 वोट मिले.

From:- AajTak